नमस्कार दोस्तो कैसे हो आप आज मै आपके लिये और एक Horror Story Hindi मे लेकर आया हु ये कहाणी रेश्मा नाम के लडकी के साथ घटी हुई है उसने उसकी आपबिती इस कहाणी मे बतायी है आपको कहाणी जरूर पसंद आयेगी चलो कहाणी को शुरू करते है

First Day Horror Story Of Girls Hostel In Hindi, horror story in hindi, horror story in hindi for reading, horror story hindi girls hostel horror story, real horror story, real horror story in hindi,new horror story hindi
new horror story hindi

        हॉस्टल में मेरा पहला दिन था मेरे रूम पार्टनर का नाम समीक्षा था। समीक्षा एक अमीर परिवार से ताल्लुक रखती थी इसलिए उसे बहुत गर्व था उसने हॉस्टल के कमरे को बहुत सारे महंगे सामानों से सजाया था और उसने केवल हमारी पहली बातचीत में उसका नाम बताया और मैंने भी उसे ज्यादा कूछ नहीं पूछा। मै अपनी रूम देखने लगी हॉस्टल का रखरखाव ठीक था मेरा प्रवेश हॉस्टल मे स्कॉलरशिप के आधार पर हुआ था। यह 11 बजे कि बात है शायद समीक्षा इयरफ़ोन पर अंग्रेजी गाने सुन रही थी क्योंकि कुछ क्षणों के बाद वह अंग्रेजी शब्द गाती है यह मेरे जीवन का हॉस्टल में रहने का मेरा पहला अनुभव था इसलिए मैं थोडी डरी हुयी और कुछ रिफ्रेशमेट लेने में असहज महसूस कर रही थी। मै किताब लेके बैठ गयी और मैंने किताब पढ़ना शुरू कर दिया और मुझे नहीं पता चला कि मुझे कब नींद आई, मैं गहरी नींद में थी तभी अचानक मुझे एक गिलास टूटने की  तेज आवाज सुनाई दी और मैं उठी मैंने एक तरफ आखं घुमाई और समीक्षा को देखा लेकिन वह सो रही थी मुझे लगा कि यह मेरा भ्रम है इसलिए मैं फिर से सोने की कोशिश करणे लगी। 

Most Horror Story In Hindi

        लेकिन कुछ मिनटों के बाद मैंने कांच तुटणे की वही आवाज सुनी मैं डर गयी और फिर से जाग गयी समीक्षा उलटे तरफ मुह करके सो रही थी इसलिए मैं उसका चेहरा नहीं देख सकी मैं समझ गयी कि वह मुझे डराने की कोशिश कर रही है मैंने उसका नाम पुकारा और चिल्लायी, मुझे पता है कि तुम मुझे डराने की कोशिश कर रहे हो समीक्षा, लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया और वह वैसे के वैसे ही रही, मैंने पहले ही अनुमान लगा लिया था कि ये चीजें मेरे साथ हॉस्टल मे होने वाली हैं क्योंकि दूसरे हॉस्टल में रहने वाले मेरे दोस्तों के साथ इसी तरह के चुटकुले और शरारतें होती थी, मैंने सोचा कि सोने का नाटक करती हु और जब मैं आवाज सुनूंगी तो मै उसे रंगे हाथ पकड लुंगी। 10 मिनट के बाद मैंने वही आवाज सुनी मैने अपनी इस समय आँखें खोली और समीक्षा को देखा लेकिन वह अभी भी लंबे समय से उसी स्थिति में ही सो रही थी मुझे वास्तविक बात का एहसास हुआ कि यह समीक्षा नहीं है मैं खडी हुयी और काच के टूटे हुए टुकड़ों को खोजने की कोशिश की फिर मैं बाहर आयी और हर जगह खोजने की कोशिश की लेकिन मुझे एक भी टुकड़ा नहीं मिला। मैं वास्तव में नर्वस और डरी हुयी थी मुझे लगा कि आवाज बाथरूम से आयी होगी मैं बाथरूम में धीरे-धीरे कदम बढ़ाते हुये जाने लगी। मुझे सच में बहोत डर लग रहा था जब मैं बाथरूम के मिरर के पास आयी तो वही आवाज आईने से आई। मैं बहुत ज्यादा डर गयी, आवाजें तेज हो गईं और कुछ समय के बाद मेरा खून लगभग मेरी नसों को छू रहा था मैं समीक्षा को बुलाने के लिए भाग गयी लेकिन जब मैंने उसका चेहरा देखा तो मैं चिल्लाने लगी उसका चेहरा खून से भरा था और वह मर चुकी थी मुझे लगभग दिल का दौरा पडने ही वाला था लेकिन मै अपनी जान बचाने के लिए बाहर की ओर भागी जब मैं बाहर आयी तो मैं लगभग डर के कारण मर ही चुकी थी मैं अपनी सांस को नियंत्रित नहीं कर सक रही थी 


        फिर मैंने एक नकाबपोश आदमी को कॉरिडोर में बड़ा चाकू पकड़े हुए देखा, मुझे डर था कि मैं दौड़ना शुरू कर दूं तो वह मेरा भी पीछा करेगा इसलिये मै वही दिवार के पीछे खडी रही और उसकी और देखने लगी  उसकी सांस भी जानवरों की सांस की तरह लग रही थी कुछ देर बाद उसने मुझे देख लिया और वो मेरी और भागते हुये आने लगा मै बहोत डर गई और भागणे लगी उसने मुझपर चाकू से वार किया लेकीन वो चूक गया उसने फिर से दुसरी बार वार किया तो मुझे मेरी बांह में चोट लगी और मै घायल हो गयी मैं और तेजी से भागी और नीचे गिर गयी अगले पल का दृश्य पूरी तरह से बदल गया था और समीक्षा मुझे जगा रही थी रेश्मा जागो! रेश्मा क्लास के लिए लेट हो रहा है, उठो केवल २० मिनट बचे हैं मेरी निंद खुली  मैंने समीक्षा को देखा और गले लगाया और रोना शुरू कर दिया और सपने की पूरी कहानी सुनाई समीक्षा मुझ पर हंसने लगी मुझे भी लगता है कि यह शायद मेरा भ्रम था लेकिन जब मैंने अपने घायलों को देखा बांह मुझे यह एहसास हुआ यह सिर्फ एक सपना नहीं है फिर मैंने हॉस्टल में अपना पहला और आखिरी दिन तय किया और हॉस्टेल छोड दिया।